You are here
Home > Hindi-Quotes >

Dilo Ki Mithas | 2 दिलो की मिठास

Dilo Ki Mithas
Dilo Ki Mithas

Dilo Ki Mithas:-दिलो की मिठास Quotes का संग्रह है जो दिलो के प्रेम को दर्शाता है और हमे प्रेम करने की प्रेरणा देता है दिलो की मिठास की मिठास को दर्शाते Quotes
 

Dilo Ki Mithas दिलो की मिठास:-

तुम गुलाब सी महकती
चॉकलेट सी होती मीठी
टैडी सी गले लगाती
काश तुम ऐसी होती… ऐ जिंदगी

चाय भी आज इश्किया सी लगती है,
मिठास तेरे लफ्जों की घुली है शायद

ये लो मेरे दिल के टुकड़ो को रख लो तुम
नमकीन इश्क का मिठास थोड़ा चख लो तुम

जब लिखना होता है, मैं लिख नहीं पाता
जब बोलना होता है, मैं बोल नहीं पाता
इतनी कड़वाहट पी चुका हूँ अब तक
कि शब्दों में मिठास घोल नहीं पाता

मिठास रिश्तों में दिल से हो तो बात बने,
चॉकलेट तो अपने आप मे मीठी है ही!

अब नहीं रेंगती चीटियाँ मुझपर
चली गयी है मिठास शायद जिंदगी से

साथ तेरे रात मेरी खास होती है।
जिस्म के नमक में भी मिठास होती है।

सुनो..
हमने बनाई है चाय आज थोड़ी फीकी सी
अपने होंठों से लगा कर
इसे मीठा कर दो.

जब से कलम हुई है प्रेयसी मेरी
शब्द महकने लगे हैं गुलाब से
कविता मीठी चॉकलेट सी लगती है
कहानियाँ भर लेती हैं अपनी बाँहों में
और कभी कभी कोई गजल चूम भी लेती है

अलग अलग रंग हैं तेरे
अलग अलग है स्वाद
जिंदगी पॉपिंस हो जाये
घुल जाये जो थोड़ी मिठास

चाय मैं ख़ुद बना लेता हूँ
तुम्हरे लिए कॉफी भी बना दूंगा
चीनी डालूंगा हिसाब से
मगर
मिठास तुम घोल देना…

अपनी जुबान पर थोड़ी मिठास
दिलों में अपने खंजर रखते हैं,
सम्भल के रहना दुनिया में यारों
लोग तिरछी नजर रखते हैं।

हुज़ूर के लबों पे,मेरे नाम का आना,
मिठास चॉकलेट से कहीं बेहतर लगती है..

मत लेना किसी का मिठास ऐ दोस्त इस चॉकलेट डे पे,
कि कल को ये, आपकी ज़िन्दगी को कड़वाहट से सजा देगें

Dilo Ki Mithas

बहुत चुभते हैं वाे रिश्ते
जो दिल में खंजर, और
हाेठाें पे मिठास रखते हैं

ये प्रेम के हैं आँसू
मिठास है इनके खारे पन में

बीस रूपए का नमक भारी है
किलो भर मिठास पे

रोज़ थोड़ा थोड़ा करके मरने लगा हूँ
उसके दिए जख्मों से संवरने लगा हूँ,
रोज़ थोड़ा थोड़ा करके उसको भूलने लगा हूँ
रोज़ थोड़ा थोड़ा करके उसके यादों को मिटाने लगा हूँ,
रोज़ थोड़ा थोड़ा करके ख़ुद को संभालने लगा हूँ,
रोज़ थोड़ा थोड़ा करके जीने की कोशिश कर रहा हूँ,
रोज़ थोड़ा थोड़ा करके अपनी मोहब्बत को लिखता जा रहा हूँ,
रोज़ थोड़ा थोड़ा करके अपनी मंजिल का राही बनता जा रहा हूँ,
रोज़ थोड़ा थोड़ा करके अपने सपनों को साकार करता जा रहा हूँ,
रोज़ थोड़ा थोड़ा करके अपनी कविताओं में मिठास भरने लगा हूँ…!!

फिजूल खर्ची बंद कर दी है चाय में मैंने चीनी की
लबों से मिल जाती मिठास जब वो छू लेते प्याली को

मिठास को कड़वाहट में बदल देती है
एक छोटी सी गलतफ़हमी

यादें इस कदर घुलने लगी हैं
मिठास शक्कर की कम होने लगी है

मिठास” मिठाई तक नहीं,
“जिंदगी” तक जरूरी है।

होमियोपैथी गोलियों सा है मेरा प्यार,
असर भी बिना दर्द और स्वाद में भी मीठास

मिठास हो या ना हो तेरी बातों में उससे कहां फर्क पड़ता है…
बात बस ये है कि तेरा गैरों से बात करना हमें ज़हर लगता है

इस कड़वाहट भरी दुनिया में
मेरी ज़िंदगी की मिठास हो तुम

रिश्तों में थोड़ा विश्वास रहने देते,
जुबान पर मिठास रहने देते,
जी लेती मैं भी दो पल सुकुन की जिंदगी…
मेरी जिंदगी में छोटी सी एक आस रहने देते..

तुम्हारे खामोशी से अच्छा तो तुम्हारा बकवास है,,
कम से कम उसमें तो अपनेपन का एहसास है,,
मत रहो यूं खामोश मेरे साथी,
तुम्हारे बक-बक शब्द ही तो मेरे जिंदगी का मिठास है।

मिठास तेरे लफ्जों की घुली है शायद !
ये लो मेरे दिल के टुकड़ो को रख लो तुम।
नमकीन इश्क का मिठास थोड़ा चख लो तुम।
चॉकलेट तो अपने आप मे मीठी है

मिठास से ऊब गए हों,
तो कुछ कड़वा चबा लीजिए।
दुख में रो कर ही,
सुख का मजा लीजिए।

Dilo Ki Mithas for Happy Life

चाय की चुस्की के साथ मैं,
अक्सर कुछ ग़म भी पीती हूँ,
मिठास बेशक कम हो जिंदगी में,
लेकिन जिंदादिली से जीती हूँ।

चीनी को चाहे कितना भी कड़वा साबित करो
उसकी मिठास में कभी कमी नहीं होती।

मेरी कड़वाहट को मिठास में बदल देती है।
पानी को भी वो प्यास में बदल देती है।
उग आते हैं जब काँटे मेरी राहों में
चलकर उन पर नर्म घास में बदल देती है।

Read More:-

Hammer and Key Inspiration Story | हथौड़ा और चाभी नैतिक शिक्षा देती हिंदी कहानी

Leave a Reply

Top